शिक्षा मंत्री डोटासर का सबसे बड़ा फैसला

By | January 26, 2020

जयपुर:-शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद डोटासरा ने घोषणा की है कि 26 जनवरी से प्रदेश के सभी विद्यालयों में संविधान की प्रस्तावना का वाचन किया जाएगा प्रार्थना सभा के अंदर तथा उन्होंने कहा है कि हम भारत के लोग से प्रारंभ होकर संविधान की संपूर्ण प्रस्तावना हम भारत के लोग भारत को एक संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न ,समाजवादी, पंथ निरपेक्षता, लोकतंत्रात्मक गणराज्य के साथ न्याय तथा सभी धर्मों को एक समान दर्जा प्राप्त हो , एकता और अखंडता, व्यक्ति की गरिमा सभी धर्मों का परस्पर भेदभाव ना हो।

शिक्षा राज्यमंत्री डोटासर ने शुक्रवार को राजस्थान के शिक्षा विभाग के मदद कार्यों को एकत्रित करके एक गुणवत्ता पूर्ण तरीके से होटल के अंदर सभी के परम विमर्श के बाद यह फैसला लिया गया जिसके अंदर कहा गया कि 26 जनवरी के बाद से प्रार्थना सभा के अंदर संविधान की प्रस्तावना प्रवचन हर रोज किया जाएगा।

प्रदेश सभी के सहयोग से नंबर वन पर रहे:-शिक्षा मंत्री डोटासर ने कहा है कि राजस्थान मैं शिक्षा क्षेत्र में नवाचार को समझते हुए इसके बारे में सबसे ज्यादा पहल की गई है पता हम चाहते हैं कि शिक्षा विभाग के अंदर दूसरा स्थान रहते हुए हमारा राजस्थान शिक्षा के अंदर तरक्की करें और प्रथम स्थान आने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे।

शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासर ने कहा है कि यह प्रस्तावना का वाचन करने का फैसला इसलिए लिया गया है इसका उद्देश्य यह है कि आने वाली नई पीढ़ी, हमारे विद्यार्थियों केंद्र एकता अखंडता और धर्म पर विश्वास ने उठे इसलिए यह प्रस्तावना का वाचन करना बहुत ही जरूरी है क्योंकि कई बच्चों को पता भी नहीं है प्रस्तावना क्या होती है इसलिए यह बड़ा फैसला लिया गया शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासर के द्वारा तथा देश के अंदर जिस तरह का माहौल बनाया जा रहा है उसे देखते हुए हमें यह प्रस्तावना नहीं भूलनी चाहिए और इसके बारे में हर रोज पढ़ना चाहिए इस से हमें यह शिक्षा मिलती है कि संविधान के प्रति आदर होना चाहिए, सभी धर्मों को समान मानना चाहिए तथा एकता और अखंडता का प्रतीक है हमारा संविधान। तथा इसी तरह हम देश के अंदर एकता अखंडता को कायम रख सकते हैं। “जय हिंद जय भारत”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *